Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

बिहार के कुछ भैया लोगों की मीटिंग हुई।
.
.
.
.
मुद्दा था स्वतंत्रता संग्राम !!
.
.
.
.
समस्या ये कि बिहार को भारत से आज़ाद कैसे कराया जाय।
.
.
भैया 1: आज़ाद कराना कौनो मुसकिल काम नाहीं ।
पर हम बिहार का बिकास कैसन करेंगे ई सोचने वाली बात है।
.
.
.
.
भैया 2: एक काम करते हैं। हम लोग मिल कर अमरीका पर हमला कर देंगे।
.
.
.
.
भैया 3 : अरे इ का भैया? अमरीका परहमला !!
ऊ से का होई ??
.
.
.
.
.
.
: अरे भैया !! जैसन हम लोग हमला करेंगे,
अमरिका हमको हरा देगा।
और हमारे राज्य पर कब्ज़ा कर लेगा।

फिर कायदे से हम लोग अमरिका के ही नागरिक कहलायेंगे।
ऊ खुद्दे अपना डेव्लापमेंट करता ही रहता है..
.
.
हमरा भी सत्थे हो जायेगा!
.
.
भैया 4: अरे वाह भैया !!
फिर तो कौनो वीसा न पासपोर्ट !

अपना सब रुपैया डालर बन जायेगा।
लड़के अंग्रेजी बोलेंगे।

किनारे बैठे फूफा जी चुप थे।”
का फूफा तुम कछु नहीं बोल रहे हो ?”
.
.
.
.
.
.
.
फूफा : “अरे हम ये सोच रहा हूँ की

अगर
हमले में हम लोग जीत गए तो अमरिका का क्या होगा!”